Source of Food for Living Beings | जीवों के भोजन के स्रोत

source of food for living beings जीवों के भोजन के स्रोत पृथ्वी पर विभिन्न प्रकार के जीव-जंतु पाए जाते हैं। इन सभी को जीने के लिए भोजन की आवश्यकता होती है। सभी जीव पेड़-पौधे, जीव-जंतु एवं मानव विभिन्न प्रकार का भोजन करते हैं। परन्तु सभी जीवों को भिन्न-भिन्न प्रकार के भोजन की आवश्यकता होती है। इसका कारण है की जीवों की आवश्यतकाएँ, क्रियाकलाप अलग-अलग होते हैं, इनकी शारीरिक क्षमताएँ अलग-अलग होती है। सभी की  भोजन मुख्य रूप से हमें दो स्रोतों से प्राप्त होता है। पहला और महत्वपूर्ण स्त्रोत पेड़-पौधे है। ये अपना कूद का भोजन तो स्वयं बनाते ही हैं, साथ ही साथ अन्य जीवों को भी खाद्य सामग्री उपलब्ध करवाते हैं।
इस अध्याय में आज हमें इसी के बारे में जीव-जंतु अपना भोजन कहाँ से प्राप्त करतें हैं।

Source of Food for Living Beings जीवों के भोजन के स्रोत

जीवों का भोजन Living Beings Food

जीवों का भोजन एक या अधिक पदार्थ का बना हो सकता है। जैसा की हमने पहले ही पढ़ा की जीव अपना भोजन दो स्रोतों से प्राप्त करते हैं। पहला पेड़-पौधों से तथा दूसरा जंतुओं से।
पेड़-पौधों से हमें फल, सब्जियाँ, धान, अनाज, मसाले, तेल आदि प्राप्त होते हैं। 
जांतव उत्पाद animal products – जंतुओं से प्राप्त होने वाले उत्पादों को जांतव उत्पाद कहते हैं। जैसे दूध, अंडा, मांस, मछली, घी आदि खाद्य सामग्रियाँ प्राप्त होती है। 

भोजन के रूप में खाये जाने वाले पौधों के भाग Parts of Plants Eaten as Food

भोजन के रूप में हम पौधों के विभिन्न भागों का सेवन करते है। कुछ पौधों की हम जड़े कहते हैं तो कुछ के तने, फूल, पत्तियां आदि। कुछ पौधों के दो या दो से अधिक भाग खाने योग्य होते है। निम्न लिखित सारणी में पौधों के विभिन्न भाग दिए गए है जिनका उपयोग भोजन के रूप में किया जाता है।
Parts of Plants Eaten as Food


पौधे का नाम भोजन के रूप में खाया जाने वाला भाग
शलजम जड़ और पत्तियाँ
आलू जड़
प्याज तना
पालक पत्तियाँ
मैथी पत्तियाँ
गेंहूँ बीच
केला फल
पपीता फलभित्ति
बेर बाह्य एवं मध्य फलभित्ति
लहसुन रूपांतरित या भूमिगत तना
गोभी फूल एवं पत्तियाँ
काजू बीजपत्र
मूंगफली बीजपत्र एवं भ्रूण
हल्दी तना
टमाटर फलभित्ति तथा प्लेसेण्टा
नारियल भ्रूणपोष
अनार बीजचोल
सेब  मांसल पुष्पासन

बीजों का अंकुरण कैसे होता है? How do Seeds Germinate?

बीजों का अंकुरण कैसे होता है? How do Seeds Germinate?
मूँग अथवा चने के कुछ बीज लेते है। अब इनमे से कुछ बीजों को जल से भरे एक पात्र में डाल देते है तथा एक दिन के लिए छोड़ देंगे। अगले दिन जल को पूरी तरह से निकल देंगे और बीजों को गिलास में रहने देंगे। उन्हें गीले कपड़े में लपेटकर एक ओर रख देंगे। हम देखते हैं की बीजों में कुछ परिवर्तन आ जाता है। बीजों से एक छोटी सी सफ़ेद संरचना बाहर निकल आती है। इसका मतलब है की बीच का अंकुरण हो गया है।

शहद का निर्माण Making Honey

हम जानते हैं की शहद मधुमक्खी द्वारा प्राप्त किया जाता है। इसके लिए मधुमक्खी छत्ता बनाती है। मधुमक्खियाँ फूलों से मकरंद (मीठे रस) इकट्ठा करती है और इसे अपने छत्ते में भंडारित कर लेती है। फूल और मकरंद, वर्ष के केवल कुछ समय के लिए ही उपलब्ध होते हैं। अतः मधुमक्खियाँ इस मकरंद का भण्डारण कर लेती है ताकि पूरे वर्ष इसका उपयोग किया जा सके। हम ऐसे छत्तों में मधुमक्खियों द्वारा भंडारित भोजन का शहद के रूप में उपयोग करते हैं।

जंतुओं का भोजन Animal Feed

प्राय: हम दैनिक जीवन में देखते हैं की विभिन्न प्रकार के जंतु भिन्न-भिन्न प्रकार के भोजन को कहते हैं। कुछ जंतु केवल पौधे, कुछ मांस और कुछ दोनों ही प्रकार के भोजन को ग्रहण करते हैं। इस आधार पर जंतुओं को तीन प्रमुख वर्गों में विभाजित किया गया है।
(1) शाकाहारी जंतु (Herbivores)    (2) मांसाहारी जंतु (Carnivorous)     (3) सर्वाहारी जंतु (Omnivorous)

(1) शाकाहारी जंतु (Herbivores)

ऐसे जंतु जो भोजन के रूप में केवल पादप-उत्पाद ही खाते है, शाकाहारी जंतु कहलाते हैं। जैसे – गाय, बकरी, घोडा, तितली आदि।

(2) मांसाहारी जंतु (Carnivorous)

ऐसे जंतु जो भोजन के रूप में केवल अन्य दूसरे जंतुओं को खाते हैं, मांसाहारी जंतु कहलाते हैं। जैसे – शेर, चीता, बाघ आदि।

(3) सर्वाहारी जंतु (Omnivorous)

ऐसे जंतु जो भोजन के रूप में पादप-उत्पाद एवं अन्य जंतुओं को खाते हैं, सर्वाहारी जंतु कहलाते हैं। जैसे – बिल्ली, चूहा, लोमड़ी, छिपकली, कुत्ता आदि।

नोट :- मनुष्य एक सर्वाहारी प्राणी है।

कुछ शाकाहारी, मांसाहारी तथा सर्वाहारी जीवों के नाम Names of Some Herbivores, Carnivores and Omnivores

शाकाहारी मांसाहारी सर्वाहारी
गाय  शेर  कौआ
भैंस चीता लोमड़ी
बकरी बाघ मनुष्य
तितली  तेंदुआ मकड़ी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!