सर्वनाम एवं सर्वनाम के भेद | Sarvnaam In Hindi

सर्वनाम की परिभाषा | Sarvnaam Ki Paribhasha | Pronoun in Hindi

संज्ञा के स्थान पर काम आने वाले शब्दों को सर्वनाम कहते है।
यहाँ यह स्पष्ट किया जा सकता है कि जब सब नामों के बदले में जो शब्द प्रयोग में आते हैं, उन्हें ही सर्वनाम कहते है।
जैसे – मैं, तुम, वह, यह आदि।

सर्वनाम के भेद या प्रकार

सर्वनाम छः प्रकार के होते है –
(i) निश्चयवाचक सर्वनाम
(ii) अनिश्चयवाचक सर्वनाम 
(iii) प्रश्नवाचक सर्वनाम 
(iv) संबंधवाचक सर्वनाम 
(v) निजवाचक सर्वनाम 
(vi) पुरुषवाचक सर्वनाम 

(i) निश्चयवाचक सर्वनाम

जिस सर्वनाम में किसी निश्चित वस्तुओं के होने का बोध हो तो वह निश्चयवाचक सर्वनाम कहलाता है। इस प्रकार के सर्वनाम में यह, वह, ये, वे आदि शब्द आते है।

निश्चयवाचक सर्वनाम के उदाहरण –

यह मेरी कार है।
वे तुम्हारे बच्चे हैं।
मुझे ये घर बहुत पसंद है।
वह कल दिल्ली से आया था।
सब्जी मत खाओ, वह ख़राब हो गयी है।

(ii) अनिश्चयवाचक सर्वनाम

जिस सर्वनाम में किसी निश्चित वस्तुओं के होने का बोध न हो, इस प्रकार के सर्वनाम को अनिश्चयवाचक सर्वनाम कहते है। इस प्रकार के सर्वनाम में कोई, कुछ आदि शब्द होते हैं।

अनिश्चयवाचक सर्वनाम के उदाहरण –

टी.वी. पर कोई धारावाहिक आ रहा है।
आज रास्ते में मुझे कोई मिल गया था।
दाल में कुछ गिर गया था।
कहीं कुछ तो है।

(iii) प्रश्नवाचक सर्वनाम

जिन वाक्यों में किसी प्रकार का प्रश्न पूछने या करने का बोध होता है, उसे प्रश्नवाचक सर्वनाम कहते है। इस प्रकार के वाक्यों में क्या, कब, कैसे, क्यों, कहाँ आदि शब्द आते है।

प्रश्नवाचक सर्वनाम के उदाहरण –

तुम कहाँ गए थे ?
आज कौन आया था ?
तुम्हारी परीक्षा कब से है ?
आज तुमने क्या खाया था ?
आप घर कैसे जाते हो ?
तुम क्या खा रहे हो ?

(iv) संबंधवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम में किसी के संबंध होने का बोध हो और पहला वाक्य दूसरे वाक्य पर आधारित होतो वह संबंधवाचक सर्वनाम कहलाता है। इस प्रकार के वाक्यों में वो, जो, जैसा, वैसा, जिसका, जिसकी आदि शब्द आते है।

संबंधवाचक के उदाहरण –

जैसा करोगे वैसा भरोगे।
वह कौन है जो सो रहा है ?

(v) निजवाचक सर्वनाम

जिन सर्वनाम से स्वयं के द्वारा किये गए कार्य का बोध हो तो वह निजवाचक सर्वनाम कहलाते है। अर्थात निजवाचक सर्वनाम में वक्ता स्वयं का ही उल्लेख करता है। इस प्रकार के सर्वनाम में आप, खुद, स्वयं आदि शब्द आते है।

निजवाचक के उदाहरण –

आज मैंने अपना गृहकार्य अपने आप किया।
मैं ये साइकिल स्वयं चला लूँगा।
खुद का काम खुद ही को करना चाहिए।

  • कभी-कभी इस सर्वनाम रूप में ‘आप’ का प्रयोग इस प्रकार होता है। जैसे –
    मैं आप वहीं जा रहे है।
    आप भला तो जग भला।
    अपने से बड़ों का आदर करो।  

(vi) पुरुषवाचक सर्वनाम

बोलने वाले, सुनने वाले या किसी अन्य व्यक्ति के लिए जिन सर्वनामों का प्रयोग किया जाता है, उन्हें पुरुषवाचक सर्वनाम कहते है।
इस प्रकार के सर्वनाम पुरुषों और स्त्रियों के नामों के बदले प्रयोग में आते हैं।

पुरुषवाचक सर्वनाम तीन प्रकार के होते है –
(अ) उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम
(ब) मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम
(स) अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम

(अ) उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम :

इस प्रकार के सर्वनाम का प्रयोग बोलने वाला या लिखने वाला स्वयं के लिए करता है, उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम कहलाते हैं। इस प्रकार के सर्वनाम में लेखक या वक्ता आते है।
उत्तम पुरुषवाचक सर्वनाम के उदाहरण – मैं/मेरा/मेरी/हम/हमारी/हमारा/हम सब
मैंने आज मिठाई खाई।
हम सब कल फिल्म देखने गए।

(ब) मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम :

इस प्रकार के सर्वनाम का प्रयोग बोलने वाला या लिखने वाला, सुनने वाले या पढ़ने वाले के लिए करता है, मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम कहलाते हैं।
इस प्रकार के सर्वनाम में पाठक या श्रोता आते है।
मध्यम पुरुषवाचक सर्वनाम के उदाहरण – तुम/तुम्हारा/तुम्हारी/तुम सब/आप 
तुम ने चाय बना ली।
तुम्हारी हिंदी की पुस्तक मेरे पास है।

(स) अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम :

जिन सर्वनामों का प्रयोग बोलने वाला या लिखने वाला किसी अन्य व्यक्ति के लिए करता है, उसे अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम कहते हैं। 
इस प्रकार के सर्वनाम में लेखक और श्रोता को छोड़कर अन्य आते हैं।
अन्य पुरुषवाचक सर्वनाम के उदाहरण – ये/वे/यह/वह
वह बस से चला गया।
वे सब क्रिकेट खेल रहें है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!