Ncert Solutions for hindi class10 chapter 5 Suryakant Tripathei Nirala | कक्षा 10 क्षितिज भाग – 2 पाठ 5 सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ सप्रसंग व्याख्या भावार्थ

Ncert Solutions for hindi class10 chapter 5 Suryakant Tripathei Nirala free Hindi Anuvaad with Vyakhya given in this section. Hindi Class 10 chapter 5 Suryakant Tripathei Nirala. एनसीइआरटी कक्षा 10 क्षितिज भाग – 2 काव्य खंड सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’. उत्साह एक आह्वान गीत है जो बादल को सम्बोधित है। बादल निराला का प्रिय विषय है। अट नहीं रही है कविता फागुन की मादकता को प्रकट करती है। class 10 Hindi kshitij chapter 5 Suryakant Tripathei Nirala and question answer available free in eteacherg.com। Here We learn what is in this lesson in class 10 hindi ncert solutions in hindi Suryakant Tripathei Nirala and solve questions class 10 Hindi kshitij chapter 5 question answer.

Ncert Solutions for hindi class10 chapter 5 Suryakant Tripathei Nirala is a part NCERT class 10 hindi kshitij are part of class 10 hindi kshitij chapter 5 Hindi Anuwaad. Here we have given ncert solutions for class 10 hindi kshitij chapter 5 prashan uttr Suryakant Tripathei Nirala. hindi class 10 chapter 5 ncert kshitij chapter 5 hindi arth below. These solutions consist of answers to all the important questions in NCERT book chapter 5.
Here we solve Ncert Solutions for hindi class10 chapter 5 Suryakant Tripathei Nirala Questions and Answers concepts all questions with easy method with expert solutions. It help students in their study, home work and preparing for exam. Soon we provide Sanskrit class 10 ncert solutions chapter 5 hindi anuvaad. is provided here according to the latest NCERT (CBSE) guidelines. Students can easily access the hindi translation which include important Chapters and deep explanations provided by our expert. Get CBSE in free PDF here. ncert solutions for ncert solutions for class 10 hindi kshitij chapter 5 pdf also available Click Here or you can download official NCERT website. You can also See NCERT Solutions for Hindi class 10 book pdf with answers all Chapter to Click Here.

Ncert Solutions for hindi class10 chapter 5 Suryakant Tripathei Nirala

ncert solutions for class 10 hindi chapter 5

कक्षा – 10
पाठ – 5
हिंदी
सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ प्रश्न-उत्तर

Ncert Solutions for Class 10 Hindi Kshitij Chapter 5 Suryakant Tripathei Nirala Questions and Answers Click Here
Ncert hindi class 10 chapter 5
सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ का व्याख्या सहित हिंदी अनुवाद

कवि परिचय

सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’

इनका जन्म बंगाल के महिषादल में सन 1899 में हुआ था। ये मूलतः गढ़ाकोला, जिला उन्नाव, उत्तर प्रदेश के निवासी थे। इनकी औपचारिक शिक्षा नवीं तक महिषादल में ही हुई। इन्होने स्वंय अध्ययन कर संस्कृत, बांग्ला और अंग्रेजी का ज्ञान अर्जित किया। रामकृष्ण परमहंस और विवेकानंद की विचारधारा ने इनपर गहरा प्रभाव डाला। सन 1961 में इनकी मृत्यु हुई।

उत्साह

बादल, गरजो! –
घेर घेर घोर गगन, धाराधर ओ!
ललित ललित, काले घुँघराले,
बाल कल्पना के – से पाले,
विद्युत- छबि उर में, कवि, नवजीबन वाले!
वज्र छिपा, नूतन कविता
फिर भर दो –
बादल, गरजो!
विकल विकल, उनमान थे उनमान
विश्व के निदाघ के सकल जन, 
आए अज्ञात दिशा से अनंत के घन!
तप्त धरा, जल से फिर 
शीतल कर दो –
बादल, गरजो!

भावार्थ

प्रस्तुत कविता एक आह्वाहन गीत है। इसमें कवि बादल से घनघोर गर्जन के साथ बरसने की अपील कर रहे हैं। बादल बच्चों के काले घुंघराले बालों जैसे हैं। कवि बादल से बरसकर सबकी प्यास बुझाने और गरज कर सुखी बनाने का आग्रह कर रहे हैं। कवि बादल में नवजीवन प्रदान करने वाला बारिश तथा सबकुछ तहस-नहस कर देने वाला वज्रपात दोनों देखते हैं इसलिए वे बादल से अनुरोध करते हैं कि वह अपने कठोर वज्रशक्ति को अपने भीतर छुपाकर सब में नई स्फूर्ति और नया जीवन डालने के लिए मूसलाधार बारिश करे।
आकाश में उमड़ते-घुमड़ते बादल को देखकर कवि को लगता है की वे बेचैन से हैं तभी उन्हें याद आता है कि समस्त धरती भीषण गर्मी से परेशान है इसलिए आकाश की अनजान दिशा से आकर काले-काले बादल पूरी तपती हुई धरती को शीतलता प्रदान करने के लिए बेचैन हो रहे हैं। कवि आग्रह करते हैं की बादल खूब गरजे और बरसे और सारे धरती को तृप्त करे।

अट नहीं रही हैं

अट नहीं रही है
आभा फागुन की तन
सट नहीं रही है।

कहीं साँस लेते हो,
घर-घर भर देते हो,
उड़ने को नभ में तुम
पर-पर कर देते हो,
आँख हटाता हूँ तो
हट नहीं रही है।
पत्तों से लड़ी दाल
कहीं हरी, कहीं लाल,
कहीं पड़ी है उर में
मंद-गंध-पुष्प-माल,
पाट-पाट शोभा-श्री
पट नहीं रही है।

भावार्थ

प्रस्तुत कविता में कवि ने फागुन का मानवीकरण चित्र प्रस्तुत किया है। फागुन यानी फ़रवरी-मार्च के महीने में वसंत ऋतू का आगमन होता है। इस ऋतू में पुराने पत्ते झड़ जाते हैं और नए पत्ते आते हैं। रंग-बिरंगे फूलों की बहार छा जाती है और उनकी सुगंध से सारा वातावरण महक उठता है। कवि को ऐसा प्रतीत होता है मानो फागुन के सांस लेने पर सब जगह सुगंध फैल गयी हो। वे चाहकर भी अपनी आँखे इस प्राकृतिक सुंदरता से हटा नही सकते।
इस मौसम में बाग़-बगीचों, वन-उपवनों के सभी पेड़-पौधे नए-नए पत्तों से लद गए हैं, कहीं यहीं लाल रंग के हैं तो कहीं हरे और डालियाँ अनगिनत फूलों से लद गए हैं जिससे कवि को ऐसा लग रहा है जैसे प्रकृति देवी ने अपने गले रंग बिरंगे और सुगन्धित फूलों की माला पहन रखी हो। इस सर्वव्यापी सुंदरता का कवि को कहीं ओऱ-छोर नजर नही आ रहा है इसलिए कवि कहते हैं की फागुन की सुंदरता अट नही रही है।

NCERT Hindi Books Class 10 Textbook PDF Download | एनसीईआरटी कक्षा 10 हिंदी पाठ्यपुस्तकें

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!