NCERT Solutions for Class 7 Science Chapter 16 Water: A Precious Resource | एनसीइआरटी कक्षा 7 विज्ञान अध्याय 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन अभ्यास-प्रश्न

NCERT Solutions for Class 7 Science Chapter 16 Water: A Precious Resource question and their answer with ncert class 7 science Chapter 16. एनसीइआरटी कक्षा 7 विज्ञान पाठ 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन के सभी प्रश्न उत्तर सवालों के जवाब सम्मिलित है। science 7th standard Chapter 16 question Answer Water: A Precious Resource (जल: एक बहुमूल्य संसाधन). Here We learn what is in NCERT class 7 science Chapter 16 solutions 7th standard science Water: A Precious Resource and how to solve questions with easiest method.

ncert solutions for class 7 Science Chapter 16 जल: एक बहुमूल्य संसाधन are part of NCERT science 7th standard Chapter 16 in hindi PDF . Here we have given NCERT Solutions for Class 7 vigyan paath 16 Prakash, ncert solutions for class 7 science. Ncert solutions for class 7 science Chapter 16 solutions Water: A Precious Resource all solutions by experts team.

Here we solve ncert science 7th standard chapter 16 Water: A Precious Resource जल: एक बहुमूल्य संसाधन concepts all questions with easy method with expert solutions. It help students in their study, home work and preparing for exam. Soon we provide ncert solutions for class 7 science Chapter 16 questions and their answer Prakash. Soon we provided ncert solutions for class 7 science Chapter 16 Water: A Precious Resource जल: एक बहुमूल्य संसाधन Prakash in free PDF here. ncert science book class 7 Chapter 16, class 7 science Chapter 16 notes pdf will be provide soon. You can download ncert science book class 7 in hindi from NCERT official website or click here for download.

NCERT Solutions for class 7 science Chapter 16

Water: A Precious Resource
विषय – विज्ञान
अध्याय – 16
जल: एक बहुमूल्य संसाधन

science 7th standard Chapter 16 Question Answer

NCERT Solutions for class 7 science Chapter 16 question answer in hindi

अभ्यास

1. निम्नलिखित वक्तव्य ‘सत्य’ हैं अथवा ‘असत्य’ –

(क) भौमजल विश्वभर की नदियों और झीलों में पाए जाने वाले जल से कहीं अधिक है।
(ख) जल की कमी की समस्या का सामना केवल ग्रामीण क्षेत्रों के निवासी करते हैं।
(ग) नदियों का जल खेतों में सिचाई का एकमात्र स्रोत हैं।
(घ) वर्षा जल का चरम स्रोत है।

उत्तर – 

(क) भौमजल विश्वभर की नदियों और झीलों में पाए जाने वाले जल से कहीं अधिक है। (सत्य)
(ख) जल की कमी की समस्या का सामना केवल ग्रामीण क्षेत्रों के निवासी करते हैं। (असत्य)
(ग) नदियों का जल खेतों में सिचाई का एकमात्र स्रोत हैं। (असत्य)
(घ) वर्षा जल का चरम स्रोत है। (सत्य)

2. समझाइए कि भौमजल की पुनःपूर्ति किस प्रकार होती है?
उत्तर – भौमजल स्तर के नीचे पाया जाने वाला जल भौमजल कहलाता है। वर्षाजल और अन्य स्रोतों, जैसे नदियों और तालाबों का जल मृदा में रिसकर भूमि के नीचे गहराई में रिक्त स्थानों और दरारों को भर देता है। जिससे भौमजल की पुनःपूर्ति होती है।

3. किसी गली में पचास घर हैं, जिनके लिए दस नलकूप (ट्यूबवैल) लगाए गए हैं। भौमजल स्तर पर इसका दीर्घावधि प्रभाव क्या होगा?
उत्तर – भूमिगत जल का लगातार उपयोग करने के कारण भौमजल कम हो जायेगा तथा इससे भौमजल स्तर में गिरावट आ जाएगी। अगर पचास घरों के लोग दस नलकूप का इस्ताल करेंगे तो अपनी जल की कमी को पूरा करने के लिए वह पानी भूमि में से खींच लेंगे। अगर इन नलकूप को लंबे समय तक इस्तेमाल किया जाए तो भोमजल काम हो जाएगा और भोमजल स्तर गिर जाएगा।

4. मान लीजिए आपको किसी बगीचे का रखरखाव करने की जिम्मेदारी दी जाती है। आप जल का सदुपयोग करने के लिए क्या कदम उठाएँगे?
उत्तर – हम बूँद (ड्रिप) सिंचाई व्यवस्था को बगीचे में पानी देने के लिए करेंगे। ड्रिप सिंचाई व्यवस्था कम व्यास के पाइपों द्वता पौधों को पानी देने की तकनीक है, जो सीधे उनकी जड़ों तक जल को पहुँचाती है और जल की बचत होती है। बगीचों में जल का कम उपयोग तभी संभव है, जब पाइप द्वारा पेड़ की जड़ों में पानी दे ताकि पानी बर्बाद न हो।

5. भौमजल स्तर के नीचे गिरने के लिए उत्तरदायी कारकों को समझाइए।
उत्तर – भौमजल स्तर के नीचे गिरने के निम्न कारक उत्तरदायी हो सकते हैं –

  • जनसंख्या प्रसार

जनसंख्या बढ़ने से भवनों, दुकानों, सड़कों आदि की माँग भी बढ़ी है। जिससे इनके निर्माण के लिए खेतों एवं विशाल घास के मैदानों को नष्ट किया जा रहा है। जिस्सेस भूमि में जल के अवस्रवण की क्षमता कम हो रही है। पक्के फ़र्श से जल आसानी से अवस्रवित नहीं होता है, जबकि घास के बगीचे, मैदानों आदि से जल तुरंत अवस्रवित हो जाता है।

  • बढ़ते हुए उद्योग

उद्योगों की संख्या निरन्तर बढ़ने से अधिक मात्रा में जल को भूमि से निकला जा रहा है। क्योंकि उद्योगों में किसी भी वस्तु के उत्पादन में कही न कही जल की आवश्यकता होती है।

  • कृषि कार्य

भारत में किसान कृषि की सिंचाई के लिए वर्षा के ऊपर निर्भर रहता है। वर्षा न होने की स्थिति में किसान को भौमजल का उपयोग सिंचाई के लिए करना पड़ता है। इसके परिणामस्वरूप भौमजल स्तर में लगातार गिरावट आ रही है।

6. रिक्त स्थानों की उचित शब्द भरकर पूर्ति कीजिए –
(क) भौमजल प्राप्त करने के लिए _____________ तथा __________ का उपयोग होता है।
(ख) जल की तीन अवस्थाएँ __________, ___________ और ___________ हैं।
(ग) भूमि की जल धारण करने वाली परत __________________ कहलाती है।
(घ) भूमि में जल के अवस्रवण के प्रक्रम को ________________ कहते हैं।

उत्तर – 
(क) भौमजल प्राप्त करने के लिए कुएँ तथा नलकूप का उपयोग होता है।
(ख) जल की तीन अवस्थाएँ बर्फ, जल और जलवाष्प हैं।
(ग) भूमि की जल धारण करने वाली परत जलभर कहलाती है।
(घ) भूमि में जल के अवस्रवण के प्रक्रम को अन्तःस्यंदन कहते हैं।

7. निम्नलिखित में से कौन सा कारक जल की कमी के लिए उत्तरदायी नहीं है?
(क) औद्योगीकरण में वृद्धि
(ख) बढ़ती जनसंख्या
(ग) अत्यधिक वर्षा
(घ) जल संसाधनों का कुप्रबंधन
उत्तर – (ग) अत्यधिक वर्षा

8. सही विकल्प का चयन कीजिए –
(क) विश्व की सभी झीलों और नदियों में जल की कुल मात्रा नियत (स्थिर) रहती है।
(ख) भूमिगत जल की कुल मात्रा नियत रहती है।
(ग) विश्व के समुद्रों और महासागरों में जल की कुल मात्रा नियत है।
(घ) विश्व में जल की कुल मात्रा नियत है।
उत्तर – (घ) विश्व में जल की कुल मात्रा नियत है।

9. भौमजल और भौमजल स्तर को दिखाते हुए एक चित्र बनाइए। उसे चिह्नित कीजिए।
उत्तर – 
NCert solutions for class 7 science chapter 16

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!