NCERT Solutions for Class 8 Social Science Geography Chapter 6 Human Resource | कक्षा 8 सामाजिक विज्ञान (भूगोल) पाठ 6 मानव संसाधन

ncert solutions for class 8 social science Geography Chapter 6 How, When and Where मानव संसाधन Manav Sansadhan. ncert solutions for class 8 sst। We learn what is in this lesson मानव संसाधन and how to solve questions एनसीइआरटी कक्षा 8 सामाजिक विज्ञान (भूगोल) पाठ 6 मानव संसाधन के प्रश्न उत्तर सम्मिलित है। All answer of ncert sst class 8 solutions given by our social science expert team, by which you can get maximum score in examination. 

NCERT Solutions for Class 8 social science’s history Chapter 6 मानव संसाधन (NCERT kaksha 8 samajik vigyaan – Bhogol) are part of NCERT Solutions for Class 8 social science . Here we have given NCERT Solutions for Class 8 samajik vigyaan Bhogol paath 8 ncert sst class 8 solutions Human Resource। ncert solutions for class 8 sst। ncert sst class 8 solutions. 
Here we solve ncert class 8 social science chapter 6 Human Resource मानव संसाधन सभी प्रश्नों के उत्तर हिंदी में उपलब्ध हैं। सभी प्रश्नों के उत्तर हमारे विशेषज्ञों द्वारा लिखे गए है जो आपको परीक्षा में अधिक से अधिक अंक लाने में सहायक है concepts all questions with easy method with expert solutions. It help students in their study, home work and preparing for exam. Soon we provide NCERT class 8 social science Geography chapter 6 Human Resource question and answers. NCERT Solutions Class 8 samajik vigyaan Chapter 6 Manav Sansadhan मानव संसाधन in free PDF here.

NCERT SOLUTIONS FOR CLASS 8 Social Science

कक्षा – 8 Class – 8
पाठ – 6 Chapter – 6
मानव संसाधन Human Resource
Social Science (Geography)
सामाजिक विज्ञान (भूगोल)

NCERT SOLUTIONS FOR CLASS 8 Social Science Geography Chapter – 6 Questions Answer in Hindi

अभ्यास प्रश्न

1. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए –

(i) लोगों को एक संसाधन क्यों समझा जाता है?
उत्तर – लोगों को एक संसाधन माना जाता है क्योंकि उनकी मांगों और क्षमताओं से वे नए संसाधन बना सकते हैं। प्रकृति की देन तभी महत्वपूर्ण हो जाती है जब लोग उसे ढूंढकर अपने लिए उपयोगी बनाते हैं। इसलिए, मानव संसाधन को भी समाज के लिए एक महत्वपूर्ण और संभावित संसाधन माना जाता है।

(ii) विश्व में जनसंख्या के असमान वितरण के क्या कारण हैं?
उत्तर – जिस तरह से लोगों का सम्पूर्ण पृथ्वी पर वितरित किया जाता है, उसे जनसंख्या वितरण के पैटर्न के रूप में जाना जाता है। दरअसल, दुनिया की 90% से अधिक आबादी लगभग 10% भूमि की सतह पर रहती है। कुछ क्षेत्र भीड़भाड़ वाले हैं और कुछ कम आबादी वाले हैं। विश्व में जनसंख्या के इस अत्यंत असमान वितरण के लिए उत्तरदायी विभिन्न कारक निम्नलिखित हैं:

A. भौगोलिक कारक – अनुकूल स्थलाकृति, खनिज और मीठे पानी के संसाधनों की उपलब्धता, अनुकूल जलवायु और मिट्टी की उर्वरता जनसंख्या वितरण को प्रभावित करने वाले कुछ कारण हैं।
उदाहरण के लिए, भारत के गंगा के मैदान, दक्षिण अफ्रीका की हीरे की खदानें आदि घनी आबादी वाले हैं।

B. सामाजिक और सांस्कृतिक कारक – बेहतर आवास, शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं के क्षेत्र अधिक आबादी वाले हैं। धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व के स्थान भी लोगों को आकर्षित करते हैं जैसे, वाराणसी, यरुशलम आदि।

C. आर्थिक कारक – अधिक उद्योग वाले स्थान, परिवहन और संचार सुविधाएं बेहतर रोजगार के अवसर प्रदान करती हैं। उपरोक्त कारणों से लोग इन स्थानों की ओर आकर्षित होते हैं जैसे, मुंबई, ओसाका आदि।

(iii) विश्व की जनसंख्या अत्यंत तीव्रता से बढ़ रही हैं। क्यों?
उत्तर – विश्व की जनसंख्या विशेष रूप से 1800 के दशक के बाद बहुत तेजी से बढ़ी है। इसका प्रमुख कारण खाद्य आपूर्ति में वृद्धि, चिकित्सा सुविधाओं में सुधार, मृत्यु दर में कमी जबकि जन्म दर समान रही।

(iv) जनसंख्या परिवर्तन को प्रभावित करने वाले किन्हीं दो कारकों की भूमिका का वर्णन कीजिए।
उत्तर – जन्म दर और मृत्यु दर जनसंख्या परिवर्तन को प्रभावित करने वाले दो कारक हैं। जन्म दर प्रति 1000 लोगों पर जीवित जन्मों की संख्या है जबकि मृत्यु दर प्रति 1000 लोगों की मृत्यु की संख्या है।
जनसंख्या परिवर्तन के ये स्वाभाविक कारण हैं। जब जन्म दर मृत्यु दर से अधिक होती है तो जनसंख्या में वृद्धि होती है। जब मृत्यु दर जन्म दर से अधिक होती है तो जनसंख्या में कमी आती है। जब दो दरें समान होती हैं, तो जनसंख्या स्थिर रहती है। इस प्रकार, जन्म और मृत्यु दर जनसंख्या के संतुलन को प्रभावित करती है।

(v) जनसंख्या संघटन से क्या तात्पर्य है?
उत्तर – जनसंख्या संघटन से तात्पर्य किसी विशेष क्षेत्र की जनसंख्या की संरचना से है। जनसंख्या की संरचना हमें जनसंख्या, उनके आयु समूहों, शैक्षिक और तकनीकी कौशल, व्यवसायों, आय के स्तर, स्वास्थ्य की स्थिति आदि में शामिल पुरुषों और महिलाओं की संख्या जानने में मदद करती है।

(vi) जनसंख्या पिरामिड क्या है? ये किसी देश की जनसंख्या को समझने में किस प्रकार मदद करते हैं?
उत्तर – जनसंख्या पिरामिड या आयु-लिंग पिरामिड एक चित्रमय चित्रण है जिसका उपयोग किसी देश की जनसंख्या संरचना का अध्ययन करने के लिए किया जाता है। यह किसी देश में उनके आयु समूहों के साथ पुरुषों और महिलाओं की वर्तमान संख्या को दर्शाता है। जनसंख्या का आयु-समूह वितरण हमें आश्रितों की संख्या और जनसंख्या में मौजूद आर्थिक रूप से सक्रिय व्यक्तियों की संख्या बताता है।

2. सही को चिह्नित कीजिए –
(i) जनसंख्या वितरण शब्द से क्या तात्पर्य है?
(क) किसी विशिष्ट क्षेत्र में समय के साथ जनसंख्या में किस प्रकार परिवर्तन होता हैं।
(ख) किसी विशिष्ट क्षेत्र में जन्म लेने वाले लोगों की संख्या के सन्दर्भ में मृत्यु प्राप्त करने वाले लोगों की संख्या।
(ग) किसी दिए हुए क्षेत्र में लोग किस रूप में वितरित हैं।
उत्तर – (ग) किसी दिए हुए क्षेत्र में लोग किस रूप में वितरित हैं।

(ii) वे तीन मुख्य कारक कौन से हैं जिनसे जनसंख्या में परिवर्तन होता हैं?
(क) जन्म, मृत्यु और विवाह
(ख) जन्म, मृत्यु और प्रवास
(ग) जन्म, मृत्यु और जीवन प्रत्याशा
उत्तर – (ख) जन्म, मृत्यु और प्रवास

(iv) 1999 में विश्व की जनसंख्या हो गई – 
(क) 1 अरब
(ख) 3 अरब
(ग) 6 अरब
उत्तर – (ग) 6 अरब

(v) जनसंख्या पिरामिड क्या है?
(क) जनसंख्या का आयु-लिंग संघटन का आलेखीय निरूपण।
(ख) जब किसी क्षेत्र का जनघनत्व इतना बढ़ जाता है कि लोग ऊँची इमारतों में रहते हैं।
(ग) बड़े नगरीय क्षेत्रों में जनसंख्या वितरण का प्रतिरूप।
उत्तर – (क) जनसंख्या का आयु-लिंग संघटन का आलेखीय निरूपण।

3. नीचे दिए शब्दों का उपयोग करके वाक्यों को पूरा कीजिए –
विरल, अनुकूल, परती, कृतिम, उर्वर, प्राकृतिक, चरम, घना।
जब लोग किसी क्षेत्र की ओर आकर्षित होते हैं तब यह ……………….. बसा हुआ बन जाता है। इसे प्रभावित करने वाले कारकों के अंतर्गत ……………….. जलवायु, ……………….. संसाधनों की आपूर्ति और ……………….. ज़मीन आते हैं।
उत्तर – 
जब लोग किसी क्षेत्र की ओर आकर्षित होते हैं तब यह घना बसा हुआ बन जाता है। इसे प्रभावित करने वाले कारकों के अंतर्गत अनुकूल जलवायु, प्राकृतिक संसाधनों की आपूर्ति और उर्वर ज़मीन आते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!