NCERT Solutions for Class 8 Science Chapter 10 Reaching the Age of Adolescence | किशोरावस्था की ओर

Ncert solutions for class 8 science chapter 10 Reaching the Age of Adolescence किशोरावस्था की ओर. Here We learn what is in this chapter किशोरावस्था की ओर and how to solve questions एनसीइआरटी कक्षा 8 विज्ञान पाठ 10 किशोरावस्था की ओर के प्रश्न उत्तर सम्मिलित है
Here given all class 8th science chapter 10 question answer in easy method. किशोरावस्था की ओर Kishoravstha ki Aur are part of NCERT Solutions for Class 8 science . Here we have given NCERT Solutions for Class 8 vigyaan paath 10 Kishoravstha ki Aur.

Here we solve ncert class 8 science solution chapter 10 Reaching the Age of Adolescence किशोरावस्था की ओर concepts all questions with easy method with expert solutions. It help students in their study, home work and preparing for exam. Soon we provide ncert solutions for class 8 science chapter 10 pdf Kishoravstha ki Aur question and answers. NCERT Solutions Class 8 vigyaan Chapter 10 Reaching the Age of Adolescence किशोरावस्था की ओर in free PDF here.

NCERT SOLUTIONS FOR CLASS 8 SCIENCE Chapter 10

Reaching the Age of Adolescence
पाठ – 10
किशोरावस्था की ओर
विज्ञान

NCERT Solutions for Class 8 Science Chapter 10 Reaching the Age of Adolescence Question Answer

अभ्यास

1. शरीर में होने वाले परिवर्तनों के लिए उत्तरदायी अंत: स्त्रावी ग्रंथियों द्वारा स्त्रावित पदार्थ का क्या क्या नाम है ?
उत्तर – शरीर में होने वाले परिवर्तनों के लिए उत्तरदायी अंत: स्त्रावी ग्रंथियों द्वारा स्त्रावित पदार्थ का नाम हार्मोन है।

2. किशोरावस्था को परिभाषित कीजिए।
उत्तर – यौवनारम्भ होने पर व्यक्ति जनन के सक्षम हो जाता है। 11 वर्ष की आयु से 19 वर्ष तक की अवधि किशोरावस्था कहलाती है।

3. ऋतुस्त्राव क्या है ? वर्णन कीजिए।
उत्तर – जब अंडाणु का निषेचन नहीं हो पता तब उस स्थिति में अंडाणु तथा गर्भाशय का मोटा स्तर उसकी रुधिर वाहिकाओं सहित निस्तारित हो जाता है। इससे स्त्रियों में रक्तस्त्राव होता है, जिसे ऋतुस्त्राव अथवा रजोधर्म कहते है। 
ऋतुस्त्राव 28 से 30 दिन में एक बार होता है। पहला ऋतुस्त्राव यौवनारम्भ में होता है, जिसे रजोदर्शन कहते है। लगभग 45 से 50 वर्ष की आयु में ऋतुस्त्राव होना रुक जाता है। ऋतुस्त्राव के रुक जाने को रजोनिवृत्ति कहते है। प्रारम्भ में ऋतुस्त्राव चक्र अनियमित हो सालता है तथा उसके नियमित होने में कुछ समय लग सकता है।

4. यौवनारम्भ के समय होने वाले शारीरिक परिवर्तनों की सूची बनाइए।
उत्तर – यौवनारम्भ के समय होने वाले शारीरिक परिवर्तन निम्न है –

(i) लम्बाई में वृद्धि
(ii) शारीरिक आकृति में परिवर्तन
(iii)  आवाज में परिवर्तन 
(iv) जनन अंगों का विकास 
(v) मानसिक विकास 
(vi) बौद्धिक विकास 
(vii) स्वेद और तेल गंथियों की क्रियाशीलता में वृद्धि 
(viii) संवेदनात्मक परिपक्वता का विकास 

5. दो कॉलम वाली एक सारणी बनाइए जिसमें अंत: स्रावी ग्रंथियों के नाम तथा उनके द्वारा स्रावित हार्मोन के नाम दर्शाए गए हों।
उत्तर – अंत: स्रावी ग्रंथियों के नाम तथा उनके द्वारा स्रावित हार्मोन के नाम निम्न है –

अंत: स्रावी गंथियाँ हार्मोन
वृषण  टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन (पौरुष हार्मोन) 
अंडाशय  ऐस्ट्रोजन हार्मोन (स्त्री हार्मोन)
पियूष या पिट्यूटरी  वृद्धि हार्मोन 
थायरॉइड थाइरॉक्सिन 
पैराथाइरॉइड  पैराथाइरॉइड हार्मोन 
एड्रिनल  एड्रिनलिन हार्मोन 
अग्नाशय या पेनक्रियस इन्सुलिन 

6. लिंग हार्मोन क्या हैं ? उनका नामकरण इस प्रकार क्यों किया गया ? उनके प्रकार्य बताइए।
उत्तर – लिंग हार्मोन :- वे हार्मोन जो गौण लैंगिक लक्षणों के लिए उत्तरदायी हैं, लिंग हार्मोन कहलाते है। ये पियूष ग्रंथि द्वारा स्रावित हार्मोनों के द्वारा नियंत्रित होते हैं।
इनका नामकरण इसप्रकार इसलिए लिया गया क्योंकि यह नर और मादा लिंग में अलग-अलग होते है।
लिंग हार्मोन दो प्रकार के होते है – (a) नर लिंग हार्मोन (टेस्टोस्टेरॉन) तथा (b) मादा हार्मोन (ऐस्ट्रोजन) कहलाते हैं।
नर लिंग हार्मोन के कार्य – नर हार्मोन द्वारा लड़के के चेहरे के बालों में वृद्धि होती है। इस हार्मोन के द्वारा शुक्राणु उत्पन्न करने की क्षमता उत्पन्न होती है।
मादा लिंग हार्मोन के कार्य – इस हार्मोन के द्वारा मादा में गौण लैंगिक लक्षण जैसे स्तनों की वृद्धि आवाज का पतला होना तथा गर्भधारण आदि को नियंत्रित करता है।

7. सही विकल्प चुनिए –
(क) किशोर को सचेत रहना चाहिए कि वह क्या खा रहे हैं, क्योंकि 
(i) उचित भोजन से उनके मस्तिष्क का विकास होता है।
(ii) शरीर में तीव्रगति से होने वाली वृद्धि के लिए उचित आहार की आवश्यकता होती है।
(iii) किशोर को हर समय भूख लगती रहती है।
(vi) किशोर में स्वाद कलिकाएँ (ग्रंथियाँ) भलीभाँति विकसित होती हैं।
उत्तर – (ii) शरीर में तीव्रगति से होने वाली वृद्धि के लिए उचित आहार की आवश्यकता होती है।

(ख) स्त्रियों में जनन आयु (काल) का प्रारम्भ उस समय होता है जब उनके :
(i) ऋतुस्त्राव प्रारम्भ होता है।
(ii) स्तन विकसित होते है।
(iii) शारीरिक भर में वृद्धि होने लगती है।
(vi) शरीर की लम्बाई बढ़ती है।
उत्तर – (i) ऋतुस्त्राव प्रारम्भ होता है।

(ग) निम्न में से कौन सा आहार किशोर के लिए सर्वोचित है :
(i) चिप्स, नूडल्स, कोक
(ii) रोटी, दाल, सब्जियाँ
(iii) चावल, नूडल्स, बर्गर 
(iv) शाकाहारी टिक्की, चिप्स तथा लेमन पेय 
उत्तर – (ii) रोटी, दाल, सब्जियाँ

8. निम्न पर टिप्पणी लिखिए –
(i) ऐडॅम्स ऐपॅल
(ii) गौण लैंगिक लक्षण 
(iii) गर्भस्थ शिशु में लिंग निर्धारण 
उत्तर – (i) ऐडॅम्स ऐपॅल : लड़कों में बढ़ता हुआ स्वरयंत्र गले के सामने की ओर सुस्पष्ट उभरे भाग के रूप में दिखाई देता है, जिसे ऐडॅम्स ऐपॅल या कंठमणि कहते है। लड़कियों में यह लड़कों की अपेक्षा छोटा होता है।

(ii) गौण लैंगिक लक्षण : युवावस्था में लड़कियों में स्तनों का विकास होने लगता है तथा लड़कों के चहरे पर दाढ़ी-मूंछ का आना। ये लक्षण क्योंकि लड़कियों को लड़कों से पहचानने में सहायता करते हैं अतः ये सभी लक्षण गौण लैंगिक लक्षण कहलाते है। लड़कों के सीने पर भी बाल आ जाते हैं। लड़कों एवं लड़कियों दोनों में ही बगल एवं जाँघ के ऊपरी भाग अथवा प्यूबिक क्षेत्र में भी बाल आ जाते हैं।

(iii) गर्भस्थ शिशु में लिंग निर्धारण : सभी मनुष्यों की कोशिकाओं के केन्द्रक में 23 जोड़े गुणसूत्र पाए जाते हैं। इनमें से 2 गुणसूत्र (1 जोड़ी) लिंग-सूत्र हैं जिन्हें X एवं Y कहते हैं। स्त्री में दो X गुणसूत्र होते हैं जबकि पुरुष में एक X तथा एक Y गुणसूत्र होता है। युग्मक (अंडाणु तथा शुक्राणु) में गुणसूत्रों का एक जोड़ा होता है। अनिषेचित अंडाणु में सदा एक X गुणसूत्र होता है। परन्तु शुक्राणु दो प्रकार के होते हैं जिनमें एक प्रकार में X गुणसूत्र एवं दूसरे प्रकार में Y गुणसूत्र होता है।
जब X गुणसूत्र वाला शुक्राणु अंडाणु को निषेचित करता है तो युग्मनज में दो X गुणसूत्र होगें तथा वह मादा शिशु में विकसित होगा। यदि अंडाणु को निषेचित करने वाले शुक्राणु में Y गुणसूत्र है तो युग्मनज नर शिशु में विकसित होगा।

class 8 science solution Chapter 10 eteacherg.com

9. शब्द पहेली : शब्द बनाने के लिए संकेत सन्देश का प्रयोग कीजिए-
बाईं से दाईं ओर NCERT Class 8 Science Chapter 10


3. एड्रिनल ग्रंथि से स्त्रावित हार्मोन 
4. मेंढक में लार्वा से वयस्क तक होने वाला परिवर्तन 
5. अंत: स्त्रावी ग्रंथियों द्वारा स्त्रावित पदार्थ
6. किशोरावस्था को कहा जाता है
ऊपर से नीचे की ओर 
1. अंत: स्त्रावी ग्रंथियों का दूसरा नाम
2. स्वर पैदा करने वाला अंग
3. स्त्री हार्मोन 
उत्तर – 
NCERT Class 8 Science Chapter 10 ans

10. नीचे दी गई सरणी में आयु वृद्धि के अनुपात में लड़कों एवं लड़कियों की अनुमानित लंबाई के आँकड़े दर्शाए गए हैं। लड़के और लड़कियों दोनों की लंबाई एवं आयु को प्रदर्शित करते हुए एक ही ग्राफ कागज पर ग्राफ खींचिए। इस ग्राफ से आप क्या निष्कर्ष निकाल सकते हैं ?
NCERT Class 8 Science Chapter 10 ans1उत्तर –
NCERT Class 8 Science Chapter 10 ans3


निष्कर्ष : उपरोक्त सारणी एवं ग्राफ से यह निष्कर्ष निकलता है कि आयु बढ़ने के साथ-साथ लड़के एवं लड़कियों कि लंबाई बढ़ती जाती है, परन्तु 16-20 वर्ष में लड़कों कि लंबाई तेज गति से बढ़ती है, जबकि 12 से 16 वर्ष तक लड़कियों कि लंबाई लड़कों से तेज गति से बढ़ती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!