BSERChapter 13Class 6MPBSENCERTQuestion & AnswerRBSEScienceSolution

NCERT Solutions Class 6 Science Lesson 13 Entertainment by Magnets | कक्षा 6 विज्ञान अध्याय 13 चुंबकों द्वारा मनोरंजन

NCERT SOLUTIONS FOR CLASS 6 SCIENCE

कक्षा – 6
विषय – विज्ञान
अध्याय – 13
चुंबकों द्वारा मनोरंजन

Lesson – 13

Entertainment by Magnets

अभ्यास – प्रश्न

1. रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए :

(क) कृत्रिम चुंबक विभिन्न आकार के बनाए जाते हैं जैसे छड़ाकार, आयताकार तथा गोलाकार। 
(ख) जो पदार्थ चुंबक की ओर आकर्षित होते हैं वे चुम्बकीय पदार्थ कहलाते हैं। 
(ग) कागज़ एक चुम्बकीय पदार्थ नहीं हैं। 
(घ) प्राचीन काल में लोग दिशा ज्ञात करने के लिए चुंबक का टुकड़ा लटकाते थे। 
(ड़) चुंबक के सदैव दो ध्रुव होते हैं। 

2. बताइए कि निम्न कथन सही है अथवा गलत :
(क) बेलनाकार चुंबक में केवल एक ध्रुव होता है।        (⨯)
(ख) कृत्रिम चुंबक का आविष्कार यूनान में हुआ था।        (✓)
(ग) चुंबक के समान ध्रुव एक-दूसरे को आकर्षित करते हैं।        (⨯)
(घ) लोहे का बुरादा छड़ चुंबक के समीप लाने पर इसके मध्य में अधिक चिपकता है।        (⨯)
(ङ) छड़ चुंबक सदैव उत्तर-दक्षिण दिशा को दर्शाता है।        (✓)
(च) किसी स्थान पर पूर्व-पश्चिम ज्ञात करने के लिए कम्पास का उपयोग किया।         (✓)
(छ) रबड़ एक चुम्बकीय पदार्थ है।        (⨯)

3. यह देखा गया है कि पेंसिल छीलक (शार्पनर) यढ्पि प्लास्टिक का बना होता है, फिर भी यह चुम्बक के दोनों ध्रुवों से चिपकता है। उस पदार्थ का नाम बताइए जिसका उपयोग इसके किसी भाग के बनाने में किया गया है ? 
उत्तर – पेंसिल छीलक (शार्पनर) प्लास्टिक का होता है परन्तु इसका ब्लेड लोहे का बना होता है। जिस कारण से यह चुंबक के दोनों ध्रुव से चिपकता है। 

4. एक चुंबक के एक ध्रुव को दूसरे चुंबक के ध्रुव के समीप लाने की विभिन्न स्थितियाँ कॉलम 1 में दर्शाई गई हैं। कॉलम 2 में प्रत्येक स्थिति के परिणाम को दर्शाया गया है। रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए :

कॉलम 1 

कॉलम 2  

N – N

____________ 

N – ___

आकर्षण

S – N

____________ 

__ – S

प्रतिकर्षण

उत्तर – 

कॉलम 1 

कॉलम 2  

N – N

प्रतिकर्षण 

N – S

आकर्षण 

S – N

आकर्षण 

S – S

प्रतिकर्षण 


5. चुंबक के कोई दो गुण लिखिए। 
उत्तर – चुम्बक के दो गुण निम्नलिखित है –
(i) चुम्बक के विपरीत ध्रुव एक-दूसरे को आकर्षित करते है तथा समान ध्रुव एक-दूसरे को प्रतिकर्षित करते है। 
(ii) स्वतंत्रतापूर्वक लटकाने पर चुम्बक सदैव उत्तर-दक्षिण दिशा को इंगित करती है। 
6. छड़ चुम्बक के ध्रुव कहाँ होते है ?
उत्तर – छड़ चुम्बक के ध्रुव उसके दोनों सिरों पर स्थित होते है। 

7. छड़ चुम्बक पर ध्रुवों की पहचान का कोई चिह्न नहीं है। आप कैंसे ज्ञात करोगे कि किस सिरे के समीप उत्तरी ध्रुव स्थित है ?
उत्तर – यह ज्ञात करने के लिए हम एक छड़ चुम्बक को धागे से स्वतंत्रतापूर्वक लटका देगें। जब ये छड़ चुम्बक स्थिर हो जाता है तो सदैव उत्तर-दक्षिण दिशा को सूचित करता है। 

8. आपको एक लोहे की पत्ती दी गई है। आप इसे चुम्बक कैसे बनाएँगे ?
उत्तर – एक चुम्बक लीजिए। लोहे की पत्ती को मेज़ पर रखकर। चुम्बक का कोई एक ध्रुव लोहे की पत्ती के एक सिरे पर रखिए। चुम्बक को बिना हटाए ऐसे लोहे की पत्ती दूसरे सिरे तक ले जाइए। चुम्बक को उठाइए तथा उसी ध्रुव को लोहे की पत्ती के प्रारम्भिक सिरे पर वापस ले आइए। इसी प्रकार चुम्बक को लोहे की पत्ती के अनुदिश बार-बार ले जाइए। इस प्रक्रिया को लगभग 30-40 बार दोहराइए। आप देखेंगे कि लोहे की पत्ती चुम्बक बन गई है। 

9. दिशा निर्धारण में कंपास का किस प्रकार प्रयोग होता है ?
उत्तर – चुम्बक का अत्यंत उपयोगी गुण है कि स्वतंत्रतापूर्वक लटकाने पर इसके दोनों ध्रुव सदैव उत्तर-दक्षिण दिशा की और रहते है। कंपास भी इसी सिद्धांत पर कार्य करता है। 
कंपास सामान्यत: काँच के ढक्कन वाली एक छोटी डिब्बी होती है। एक चुम्बकित सुई डिब्बी के अंदर एक धुरि पर लगी होती है जो सवतंत्रतापूर्वक घूमती है। कंपास में एक डायल भी होता है जिस पर दिशाएँ अंकित होती हैं। कंपास को उस स्थान पर रखते हैं जहाँ हमें दिशा निर्धारित करना होता है। इसकी सुई विरामावस्था में उत्तर-दक्षिण दिशा को निर्देशित करती है। जिससे दिशा का ज्ञान होता है। 
10. पानी के टब में तैरती एक खिलौना नव के समीप विभिन्न दिशाओं से एक चुम्बक लाया गया। प्रत्येक स्थिति में प्रेक्षित प्रभाव कॉलम 1 में तथा संभावित कारण कॉलम 2 में दिए गए हैं। 
कॉलम 1 में दिए गए कथनों का मिलान कॉलम 2 में दिए गए कथनों से कीजिए। 

कॉलम 1 

कॉलम 2 

नाव चुंबक की ओर आकर्षित हो जाती है।

नाव में चुंबक लगा है जिसका उत्तरी ध्रुव, नाव के अग्र भाग की ओर है।

नाव चुंबक से प्रभावित नहीं होती।

नाव में चुम्बक लगा है जिसका दक्षिणी ध्रुव, नाव के अग्र भाग की और है।

यदि चुंबक का उत्तरी ध्रुव नाव के अग्र भाग के समीप लाया जाता है तो नाव चुंबक के समीप आती है।

नाव की लंबाई के अनुदिश एक छोटा चुंबक लगाया गया है।

जब उत्तरी ध्रुव नाव के अग्र भाग के समीप लाया जाता है तो नाव चुंबक से दूर चली जाती है। 

नाव चुंबकीय पदार्थ से निर्मित है।

नाव बिना दिशा बदले तैरती है। 

नाव अचुंबकीय पदार्थ से निर्मित है।  

उत्तर –

कॉलम 1

कॉलम 2

नाव चुंबक की ओर आकर्षित हो जाती है।

नाव चुंबकीय पदार्थ से निर्मित है।

नाव चुंबक से प्रभावित नहीं होती।

नाव अचुंबकीय पदार्थ से निर्मित है।

यदि चुंबक का उत्तरी ध्रुव नाव के अग्र भाग के समीप लाया जाता है तो नाव चुंबक के समीप आती है।

नाव में चुम्बक लगा है जिसका दक्षिणी ध्रुव, नाव के अग्र भाग की और है।

जब उत्तरी ध्रुव नाव के अग्र भाग के समीप लाया जाता है तो नाव चुंबक से दूर चली जाती है।

नाव में चुंबक लगा है जिसका उत्तरी ध्रुव, नाव के अग्र भाग की ओर है।

नाव बिना दिशा बदले तैरती है।

नाव की लंबाई के अनुदिश एक छोटा चुंबक लगाया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!