NCERT Solutions for Class 8 Science Chapter 9 Reproduction in Animals | जंतुओं में जनन

Our today topic in free ncert solutions for class 8 science chapter 9 Reproduction in Animals जंतुओं में जनन. Here We learn what is in this chapter जंतुओं में जनन and how to solve questions एनसीइआरटी कक्षा 8 विज्ञान पाठ 9 जंतुओं में जनन के प्रश्न उत्तर सम्मिलित है।
Here given all class 8 science chapter 9 question answer in easy method free. जंतुओं में जनन Jantuon me Janan are part of NCERT Solutions for Class 8 science . Here we have given NCERT Solutions for class 8 science chapter 9 vigyaan paath 9 Jantuon me Janan.

Here we solve ncert class 8 Science chapter 9 Reproduction in Animals जंतुओं में जनन concepts all questions with easy method with expert solutions. It help students in their study, home work and preparing for exam. Soon we provide ncert solutions for class 8 science chapter 9 pdf Jantuon me Janan question and answers. NCERT Solutions class 8th science vigyaan Chapter 9 Reproduction in Animals जंतुओं में जनन in free PDF here. You can download ncert class 8 science book pdf from NCERT official site or Click HERE.
 

NCERT SOLUTIONS FOR CLASS 8 SCIENCE Chapter 9

Reproduction in Animals
विज्ञान
पाठ – 9
जंतुओं में जनन

NCERT SOLUTIONS FOR CLASS 8 SCIENCE Chapter 9 Reproduction in Animals Question Answer

अभ्यास-प्रश्न

1. सजीवों के लिए जनन क्यों महत्वपूर्ण है ? समझाइये।
उत्तर – सजीवों में जनन महत्वपूर्ण है क्योंकि यह प्रक्रम प्रत्येक जीव की उत्तरजीविता के लिए आवश्यक हैं। जनन जाति (स्पीशीज) की निरंतरता बनाने के लिए आवश्यक है। जनन द्वारा प्रत्येक जीव अपने जैसे ही जीवों में पीढ़ी दर पीढ़ी निरंतरता बनाए रखना सुनिश्चित करता है। इसमें जीव अपने समान ही जीवों को उत्पन्न करता है जिससे की उनका अस्तित्व आगे पीढ़ियों तक बना रहता है।

2. मनुष्य में निषेचन प्रक्रम को समझाइए।
उत्तर – मनुष्य में निषेचन प्रक्रम – जनन प्रक्रम का पहला चरण शुक्राणु और अंडाणु का संलयन है। जब शुक्राणु, अंडाणु के संपर्क में आते हैं तो इनमें से एक शुक्राणु अंडाणु के साथ संलयित हो जाता है। शुक्राणु और अंडाणु का यह संलयन निषेचन कहलाता है। निषेचन के समय शुक्राणु और अंडाणु संलयित होकर एक हो जाते हैं। निषेचन के परिणामस्वरूप युग्मनज का निर्माण होता है।
निषेचन की प्रक्रिया में स्त्री (माँ) के अंडाणु और नर (पिता) के शुक्राणु का संयोजन होता है। अतः नयी संतति में कुछ लक्षण अपनी माता से तथा कुछ लक्षण अपने पिता से वंशानुगत होते हैं।

3. सर्वोचित उत्तर चुनिए –
(क) आंतरिक निषेचन होता है :
(i) मादा के शरीर में     ()
(ii) मादा के शरीर से बाहर
(iii) नर के शरीर में 
(iv) नर के शरीर के बाहर

(ख) एक टैडपोल जिस प्रक्रम द्वारा वयस्क में विकसित होता है, वह है :
(i) निषेचन 
(ii) कायांतरण     ()
(iii) रोपण 
(iv) मुकुलन 

(ग) एक युग्मनज में पाए जाने वाले केंद्रकों की संख्या होती है :
(i) कोई नहीं 
(ii) एक     ()
(iii) दो
(iv) चार 

4. निम्न कथन सत्य (T) है अथवा असत्य (F) संकेतिक कीजिए –
(क) अंडप्रजक जंतु विकसित शिशु को जन्म देते हैं।     (F)
(ख) प्रत्येक शुक्राणु एक एकल कोशिका है।     (T)
(ग) मेंढक में बाह्य निषेचन होता है।     (T)
(घ) वह कोशिका जो मनुष्य में नए जीवन का प्रारंभ है, युग्मक कहलाती है।     (T)
(ङ) निषेचन के पश्चात दिया गया अंडा एक एकल कोशिका है।     (T)
(च) अमीबा मुकुलन द्वारा जनन करता है।     (F)
(छ) अलैंगिक जनन में भी निषेचन आवश्यक है।     (F)
(ज) द्विखंडन अलैंगिक जनन की एक विधि है।     (T)
(झ) निषेचन के परिणामस्वरूप युग्मनज बनता है।     (T)
(न) भ्रूण एक एकल कोशिका का बना होता है।     (F)

5. युग्मनज और गर्भ में दो भिन्नताएँ दीजिए।
उत्तर – युग्मनज का निर्माण निषेचन के दौरान शुक्राणु और अंडाणु  के संलयन से होता है। जिसमे मुख्यतः एक केन्द्रक होता है तथा अंगों की पहचान नहीं होती है।
गर्भ – निषेचन के बाद युग्मनज बनता है तथा इसके बाद भ्रूण विकसित होकर गर्भ बनता है। इसमें शारीरिक अंगों को पहचाना जा सकता है।

6. अलैंगिक जनन की परिभाषा लिखिए। जंतुओं में अलैंगिक जनन की दो विधियों का वर्णन कीजिए।
उत्तर – अलैंगिक जनन – इस प्रकार के जनन को जिसमें केवल एक ही जनक नए जीव को जन्म देता है, अलैंगिक जनन कहते हैं। 
अलैंगिक जनन की विधियाँ :
(i) मुकुलन – किसी एक जनक से निकले हुए प्रवर्ध (उभार) से नए जीव का विकसित होना मुकुलन कहलाता है। हाइड्रा में एक या अधिक उभार दिखाई दे सकते हैं। वह उभार विकसित होते नए जीव हैं जिन्हें मुकुल कहते हैं। हाइड्रा में मुकुल से नया जीव विकसित होता है इसलिए इस प्रकार के जनन को मुकुलन कहते है।

(ii) द्विखंडन – जब जीव का केन्द्रक दो भागों में विभाजित होकर, दो अलग-अलग केंद्रकों में बदल जाता है। इस प्रकार का जनन द्विखंडन कहलाता है। अमीबा का केन्द्रक दो भागों में विभाजित हो जाता है। जिससे आगे चलकर दो नए जीव विकसित होते है। 

7. मादा के किस जनन अंग में भ्रूण का रोपण होता है ?
उत्तर – मादा के गर्भाशय में भ्रूण का रोपण होता है।

8. कायांतरण किसे कहते हैं ? उदाहरण दीजिए।
उत्तर – टैडपोल का कुछ विशेष परिवर्तनों के साथ वयस्क में रूपांतरण कायांतरण कहलाता है।

9. आंतरिक निषेचन तथा बाह्य निषेचन में भेद कीजिए।
उत्तर – आंतरिक निषेचन तथा बाह्य निषेचन में अंतर निम्न हैं –
NCERT Solutions for class 8th science Chapter 9 Reproduction in Animals

आंतरिक निषेचन बाह्य निषेचन
वह निषेचन जो मादा के शरीर के अंदर होता है, आंतरिक निषेचन कहलाता है। इस प्रकार का निषेचन जिसमें नर एवं मादा युग्मक का संलयन मादा के शरीर के बाहर होता है, बाह्य निषेचन कहलाता है।
उदाहरण – मनुष्य, गाय, कुत्ते, मुर्गी आदि जानवरों में  उदाहरण – मछली, स्टारफिश जैसे जलीय प्राणी

10. नीचे दिए गए संकेतों की सहायता से क्रॉस शब्द पहेली को पूरा कीजिए।
बाईं से दाईं ओरNCERT Class 8 Science Chapter 9

1. यहाँ अंडाणु उत्पादित होते है 
2. वृषण में उत्पादित होते हैं 
3. हाइड्रा का अलैंगिक जनन हैं 
ऊपर से नीचे की ओर 
1. यह मादा युग्मक है 
2. नर और मादा युग्मक का मिलना 
3. एक अंडप्रजक जंतु

NCERT Solutions for class 8th science Chapter 9 Reproduction in Animals

उत्तर – NCERT Class 8 Science Chapter 9 ans

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!