NCERT Solutions Class 6 Hindi Vasant Lesson 1 Vahe Chidiya Jo | कक्षा 6 हिन्दी वसन्त अध्याय 1 वह चिड़िया जो

NCERT SOLUTIONS FOR CLASS 6 HINDI


कक्षा – 6
विषय – हिन्दी वसन्त
अध्याय – 1
वह चिड़िया जो
Lesson – 1
Vahe Chidiya Jo


प्रश्न-अभ्यास

1. कविता पढ़कर तुम्हारे मन में चिड़िया का जो चित्र उभारता है उस चित्र को कागज़ पर बनाओ।

2. तुम्हें कविता का कोई और शीर्षक देना हो तो क्या शीर्षक देना चाहोगे ? उपयुक्त शीर्षक ऊँचकर लिखों।
उत्तर – उपयुक्त कविता का दूसरा शीर्षक संतोषी छोटी चिड़िया नीले पंख वाली चिड़िया हो सकता है।

3. इस कविता के आधार पर बताओ कि चिड़िया को किन-किन चीजों से प्यार हैं? 
उत्तर – चिड़िया को अनाज के दानों से, नदी के बहते जल से, उफनती नदियों में चोंच मारना, ऊँचाई से प्यार है।

4. (क) रस उँडेलकर गा लेती है 
(ख) चढ़ी नदी का दिल टटोलकर
जल का मोती ले जाती है।
आशय – (क) चिड़िया एकांत शांत घने जंगल में बेरोक कंठ खोलकर उमंग के साथ गाती है।
(ख) यह उकनती नदी के विषय मे जानकर भी जल की बूंदों को मोती की तरह भर लाती है।

अनुमान और कल्पना

1. कवि ने नीली चिड़िया का नाम नही बताया है। वह कौन सी चिड़िया रही होगी? इस प्रश्न का उत्तर जानने के लिए पक्षी-विज्ञानी सालिम अली की पुस्तक ‘भारतीय पक्षी’ देखो। इनमें ऐसे पक्षी भी शामिल हैं जो जाड़े में एशिया के उत्तरी भाग औए अन्य ठंडे देशों से भारत आते हैं।उनकी पुस्तक को देखकर तुम अनुमान लगा सकते हो कि इस कविता में वर्णित नीली चिड़िया शायद इनमें से कोई एक रही होगी – 
नीलकंठ
छोटा किलकिला
कबूतर
बड़ा पतरिंगा
उत्तर – इस कविता में जिस चिड़िया का वर्णन किया गया है, वह नीलकंठ है। 

2. नीचे कुछ पक्षियों के नाम दिए गए हैं। उनमें यदि कोई पक्षी एक से अधिक रंग का है तो लिखो कि उसके किस हिस्से का रंग कैसा है। जैसे तोते की चोंच लाल है, शरीर हरा है।
(i) मैना 
(ii) कौआ 
(iii) बतख 
(iv) कबूतर 
उत्तर – मैना। इसकी टांगे हल्की लाल तथा पंख भूरे व हरे होते हैं। 

3. कविता का हर बंध ‘वः चिड़िया जो -‘ से शुरू होता है और मुझे बहुत प्यार है’ पर ख़त्म होता है। तुम भी इन पंक्तियों का प्रयोग करते हुए अपनी कल्पना से कविता में कुछ नए बंध जोड़ों। 
उत्तर – वह चिड़िया जो 
घर की खातिर 
चोंच में लाये लकड़ी पाती 
और बनाये किसी शाख पर 
अपना सूंदर सा घर-डेरा 
मुझे डालों से बहुत प्यार है। 

4. तुम भी ऐसी कल्पना कर सकते हो कि ‘वह फूल का पौधा जो पीली पंखुड़ियों वाला – महक रहा है, मैं हूँ। उसकी विशेषताएँ मुझ में है……। फूल के बदले वह कोई दूसरी चीज भी हो सकती है जिसकी विशेषताओं को गिनाते हुए तुम उसी चीज़ से अपनी समानता बता सकते हो….. ऐसी कल्पना के आधार पर कुछ पंक्तियाँ लिखो। 
उत्तर – वह नभ में उड़ता हुआ आज़ाद पंछी मैं हूँ। 
कभी इस डाल पर कभी उस डाल पर 
पेड़ों पर चहचहा रहा हूँ। 
अपने पंखों को फैलाकर अनंत आकाश में उड़ता जा रहा हूँ। 
वह सुनहरी गर्दन वाला पक्षी मैं हूँ 
बादलों से है मेरा मुकाबला।

भाषा की बात

1. पंखोंवाली चिड़िया        नील पंखोवाली चिड़िया 
ऊपरवाली दराज        सबसे ऊपरवाली दराज़  
  • यहाँ रेखांकित शब्द विशेषण का काम हैं। ये शब्द चिड़िया और दराज़ संज्ञाओं की विशेषता बता रहे हैं, अतः रेखांकित शब्द विशेषण हैं और चिड़िया, दराज़ विशेष्य हैं। यहाँ ‘वाला/वाली’ जोड़कर बनने वाले कुछ और विशेषण दिए गए हैं। ऊपर दिए गए उदाहरणों तरह इनके आगे एक-एक विशेषण और जोड़ो –
उत्तर – नाचते मोरोंवाला बाग 
हरे पेड़ोंवाला घर 
गुलाबी फूलोंवाली क्यारी 
हमारी स्कूलवाला रास्ता 
ज्यादा हँसनेवाला बच्चा 
घनी मुँछोंवाला आदमी 

2. वह चिड़िया ……………. जुंड़ी के दाने रुचि से …………… खा लेती है। 
वह चिड़िया …………… रस उँड़ेलकर गा लेती है। 
  • कविता की इन पंक्तियों में मोटे छापे वाले शब्दों को ध्यान से पढ़ो।  पहले वाक्य में ‘रुचि से’ खाने के ढंग की और दूसरे वाक्य में ‘रस उँड़ेलकर’ गाने के ढंग की विशेषता बता रहे हैं। अतः ये दोनों क्रियाविशेषण हैं। नीचे दिए वाक्यों में कार्य के ढंग या रीती से सम्बंधित क्रियाविशेषण छाँटो। 
(क) सोनाली कालड़ी-जल्दी मुँह में लड्डू ठूँसने लगी। 
(ख) गेंद लुढ़कती हुई झाड़ियों में चली गई। 
(ग) भूकंप के बाद जनजीवन धीरे-धीरे सामान्य होने लगा। 
(घ) कोई सफ़ेद-सी चीज़ धप्प-से आँगन में गिरी। 
(ड़) टॉमी फुर्ती से चोर पर झपटा। 
(च) तेजिंदर सहमकर कोने में बैठ गया। 
(छ) आज अचानक ठंड बढ़ गई है। 
उत्तर – (क) सोनाली जल्दी-जल्दी मुँह में लड्डू ठूँसने लगी। 
(ख) गेंद लुढ़कती हुई झाड़ियों में चली गई। 
(ग) भूकंप के बाद जनजीवन धीरे-धीरे सामान्य होने लगा। 
(घ) कोई सफ़ेद-सी चीज़ धप्प-से आँगन में गिरी। 
(ड़) टॉमी फुर्ती से चोर पर झपटा। 
(च) तेजिंदर सहमकर कोने में बैठ गया। 
(छ) आज अचानक ठंड बढ़ गई है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!