NCERT Class 8 Hindi Chapter 3 Bus Ki Yatra कक्षा 8 हिन्दी पाठ 3 बस की यात्रा

कक्षा – 8
विषय – हिन्दी
पाठ – 3 
बस की यात्रा

 
कारण बताएँ
 
1. “मैंने उस कंपनी के हिस्सेदार की तरफ पहली बार श्रद्धाभाव से देखा।”
  • लेखक के मन में हिस्सेदार साहब लिए श्रद्धा क्यों जग गई ?
उत्तर – बस की हालत खराब होने के बावजूद भी अपनी जान को जोखिम में डालकर हिस्सेदार साहब ने इसी ख़राब बस में सफर करने का साहस दिखाया इसलिए लेखक के मन में हिस्सेदार साहब लिए श्रद्धा जग गई। 
 
2. “लोगों ने सलाह दी कि समझदार आदमी इस शाम वाली बस से सफ़र नहीं करते।”
  • लोगों ने ये सलाह क्यों दी ?
उत्तर – लोगों ने ये सलाह इसलिए दी क्योकि बस की हालत बहुत खराब थी। उनके अनुसार बस डाकिन की तरह थी।  रात का समय था और बस कभी भी जंगल में ख़राब हो सकती थी, और रात कही भी गुजारनी पड़ सकती थी। 
 
3. “ऐसा जैसे सारी बस ही इंजन है और हम इंजन के भीतर बैठे है।”
  • लेखक को ऐसा क्यों लगा ?
उत्तर – बस की हालत बहुत ख़राब थी। जब इंजन शुरू हुआ तो पूरी बस के साथ बस में बैठे सभी लोग हिलने लग गए। इसलिए लेखक को ऐसा लगा मानो वे सभी इंजन के अंदर बैठे है। 
 
4. “गजब हो गया। ऐसी बस अपने आप चलती है।”
  • लेखक को यह सुनकर हैरानी क्यों हुई ?
उत्तर – जब लेखक ने बस की स्थिति को देखा तो उसे लगा की ये बस क्या चलेगी। परन्तु जब लेखक ने हिस्सेदार से पूछा तो उसने कहा की ये बस अपने आप ही चलेगी। यही सुनकर लेखक को हैरानी हुई। 
 
5. “मैं हर पेड़ को अपना दुश्मन समझ रहा था।”
  • लेखक पेड़ों को दुश्मन क्यों समझ रहा था ?
उत्तर – बस की हालत बहुत ख़राब थी। लेखक ने सोचा की बस का ब्रेक कभी भी फ़ैल हो सकता है और वह किसी भी पेड़ से टकरा सकती है। जब एक पेड़ निकलता तो लेखक सोचता की शायद अब अगले पेड़  टकरा जाएगी। यही सोचकर लेखक को हर एक पेड़ दुश्मन की तरह लग रहा था। 
 
पाठ से आगे
 
1. ‘सविनय अवज्ञा आंदोलन’ किसके नेतृत्व में, किस उद्देश्य से तथा कब हुआ था ? इतिहास की उपलब्ध पुस्तकों के आधार पर लिखिए। 
उत्तर – ‘सविनय अवज्ञा आंदोलन’ गांधीजी के नेतृत्व में सन 1930 नमक कानून तोड़कर किया। जिसका उद्देश्य था स्वाधीनता प्राप्त करना। 
 
2. सविनय अवज्ञा का उपयोग व्यंग्यकार ने किस रूप में किया है ? लिखिए। 
उत्तर – सविनय अवज्ञा का उपयोग व्यंग्यकार ने बस के लिए किया है।  जिस प्रकार बस ने अपने मालिक से विनयपूर्वक स्वतंत्रता प्राप्ति की इच्छा रखी, उसी प्रकार सविनय आंदोलन स्वतंत्रता प्राप्त करने के लिए किया गया।  
 
3. आप अपनी किसी यात्रा के खट्टे-मीठे अनुभवों को याद करते हुए एक लेख लिखिए। 
उत्तर – स्वयं करें। 
 
मन-बहलाना
  • अनुमान कीजिए यदि बस जीवित प्राणी होती, बोल सकती तो वह अपनी बुरी हालत और भरी बोझ के कष्ट को किन शब्दों में व्यक्त करती लिखिए। 
उत्तर – यदि बस जीवित प्राणी होती, बोल सकती तो वह अपने मालिक से विनती करती की अब उसे कार्य से मुक्त कर देवें। वह अब और यात्रियों का बोझ नहीं उठा सकती है। अब मुझे माफ़ करो। 
 
भाषा की बात
 
1. बस, वश, बस तीन शब्द हैं – इनमें बस सवारी के अर्थ में, वश अधीनता के अर्थ में और बस पर्याप्त (काफी) के अर्थ में प्रयुक्त होता है, जैसे – बस में चलना होगा। मेरे वश में नहीं है। अब बस करो। 
  • उपर्युक्त वाक्यों के समान वश और बस शब्द से दो-दो वाक्य बनाइए। 
उत्तर – बस : (i) हमने बस में खिड़की वाली सीट ली। 
(ii) मैं मेरी नानी के यहाँ बस में जाता हूँ। 
वश : (i) हमें अपने मन को वश चाहिए। 
(ii) मयंक इतना शैतान लड़का है की वह किसी के वश में नहीं आता। 
बस : (i) बस अब मुझसे और नहीं चला जाता है। 
(ii) मैं बस खिचड़ी खाऊंगा। 
 
2. “हम पाँच मित्रों ने तय किया कि शाम चार बजे की बस से चलें। पन्ना से इसी कंपनी की बस सतना के लिए घंटे भर बाद मिलती है।” 
ऊपर दिए गए वाक्यों में ने, की, से आदि वाक्य के दो शब्दों के बीच संबंध स्थापित कर रहे हैं।  ऐसे शब्दों को कारक कहते है। इसी तरह दो वाक्यों को एक साथ जोड़ने के लिए ‘कि’ का प्रयोग होता है।
  • कहानी में से दोनों प्रकार के चार वाक्यों को चुनिए। 
उत्तर – (i) बस को देखा तो श्रद्धा उमड़ पड़ी। 
(ii) प्रकृति के दृश्य सुहावने थे। 
(iii) धीरे-धीरे वृद्धा की आँखों की ज्योति जाने लगी। 
(iv) पन्ना कभी भी पहुँचने की उम्मीद छोड़ दी थी। 
 
3. “हम फ़ौरन खिड़की से दूर सरक गए। चाँदनी में रास्ता टटोलकर वह रेंग रही थी।”
दिए गए वाक्यों में आई ‘सरकना’ और ‘रेंगना’ जैसी क्रियाएँ दो प्रकार की गतियाँ दर्शाती है।  ऐसी कुछ और क्रियाएँ एकत्र कीजिए जो गति के लिए प्रयुक्त होती हैं, जैसे – घूमना इत्यादि। उन्हें वाक्यों में प्रयोग कीजिए।
उत्तर – रफ़्तार – बस की रफ़्तार बहुत धीमी थी। 
गुजरना – पूरी बस सविनय अवज्ञा आंदोलन के दौर से गुज़र रही थी। 
चलना – आठ-दस मील चलने पर सारे भेदभाव मिट गये। 
 
4. “काँच बहुत काम बचे थे। जो बचे थे, उनसे हमें बचना था।”
इस वाक्य में ‘बच’ शब्द को दो प्रयोग किया गया है।  एक ‘शेष’ अर्थ में और दूसरा ‘सुरक्षा’ के अर्थ में।नीचे दिए गए शब्दों को वाक्यों में प्रयोग करके देखिए। ध्यान रहे, एक ही शब्द वाक्य में दो बार आना चाहिए और शब्दों के अर्थ में कुछ बदलाव होना चाहिए। 
(क) जल    (ख) हार
उतर – जल : जब शरीर पर जल जाता है तो उस पर तुरंत जल नहीं डालना चाहिए। 
हार : खेल में हार जाने वालो को हार नहीं मिलता है। 
 
5. बोलचाल में प्रचलित अंग्रेजी शब्द ‘फर्स्ट क्लास’ में दो शब्द है – फर्स्ट और क्लास यहाँ क्लास का विशेषण है फर्स्ट। चूँकि फर्स्ट संख्या है, फर्स्ट क्लास संख्यावाचक विशेषण का उदाहरण है। ‘महान आदमी’ में किसी आदमी की विशेषता है महान। यह गुणवाचक विशेषण है। संख्यावाचक विशेषण और गुणवाचक विशेषण के दो-दो उदाहरण खोजकर लिखिए। 
उत्तर – संख्यावाचक : दूसरा टायर, दस मील
गुणवाचक – अच्छी बस, वृद्ध औरत 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!