Definition of Angle, Type of Triangle। कोण (Angle) परिभाषा, कोण के प्रकार एवं परिभाषाएँ । पूरक एवं संपूरक कोण

कोण (Angle) 

कोण :- जैसा की हम जानते है की दो रेखाएँ जहाँ मिलती है, वहाँ कोण बनता है। आज यहाँ हम कोण की परिभाषा और कोण के प्रकार के बारे में अध्ययन करेंगे। जैसा की ज्ञात है कि कोण में दो रेखाओं का होना आवश्यक है। इस अध्याय में हम जानेंगे की न्यून कोण, अधिक कोण व समकोण, अधिक कोण, सरल कोण, तथा पूरक कोण व संपूरक कोण किसे कहते है। आओ तो अब इसके बारे में विस्तारपूर्वक अध्ययन करते है।

Kon kise kahte hai ?
कोण किसे कहते है ?
कोण की परिभाषा – यदि किसी सरल रेखा के एक बिंदु को स्थिर रखकर दूसरे सिरे को घुमाएँ तो उसकी स्थिति में परिवर्तन होता है, इस परिवर्तन की माप की कोण कहते है।
कोण के उदाहरण निम्न है :
ABC व PQR
अथवा दो सरल रेखाओं के बीच के झुकाव को ही कोण कहते है। 
जहाँ दो रेखाएँ आपस में मिलती है, वहाँ कोण का निर्माण होता है।
कोण को ∠ द्वारा प्रदर्शित करते है या दर्शाते है। 
कोण के भेद (कोण के प्रकार)
सरल रेखा के उनके घुमाव माप के आधार पर कोण निम्न प्रकार के होते है। 
1. न्यूनकोण (Acute Angle)
2. समकोण (Right Angle)
3. अधिककोण (Obtuse Angle)
4. सरल कोण या ऋजु कोण (Straight Angle)
5. वृहत कोण या प्रतिवर्ती कोण (Reflex Angle)
6. सम्पूर्ण कोण (Whole Angle)

न्यूनकोण किसे कहते है ? न्यूनकोण का माप कितना होता है ? 
अथवा न्यूनकोण की परिभाषा लिखिए। Definition of Acute Angle?
1. न्यूनकोण (Acute Angle) – न्यूनकोण की परिभाषा – 90 डिग्री (90°) से छोटे कोण को न्यूनकोण कहते है। 
अर्थात ऐसा कोण जिसका मान 90 डिग्री (90°) से कम होता है, न्यूनकोण कहलाता है। 
न्यूनकोण का मान (माप) = न्यूनकोण < 90°
∠ABC 
Definition of Acute Angle : A angle which is smaller than 90 degree, called Acute Angle. All angle which are between 0 to 89.99 degree are Acute Angle.
Example of Acute Angle – 45, 89, 21, 75 etc.


समकोण किसे कहते है ? समकोण का माप कितना होता है ?
समकोण की परिभाषा लिखिए। Definition of Acute Angle?
2. समकोण – समकोण की परिभाषा – 90 डिग्री (90°) के कोण को समकोण कहते है। 
अर्थात ऐसा कोण जिसका मान 90 डिग्री (90°) के बराबर हो, समकोण कहलाता है।
समकोण का मान हमेशा निश्चित रहता है। 
समकोण का माप = समकोण = 90°
∠ABC 
Definition of Acute Angle : A angle which are equal to 90 degree, called Right Angle. This angle value has always fix 90 degree. 


अधिककोण किसे कहते है ? अधिककोण का माप कितना होता है ?
अधिककोण की परिभाषा लिखिए।
3. अधिककोण – अधिककोण की परिभाषा –  90° डिग्री (90) से बड़े परन्तु 180 डिग्री (180°) से छोटे कोण को अधिककोण कहते है। 
अर्थात अधिककोण का मान 90° व 180° के बीच होता है। 
अधिककोण का माप = 90° < अधिककोण  > 180°
Obtuse Angle : A angle which is Greater than 90 degree and smaller than 180 degree, called Obtuse Angle. All angle which are between 91 to 179 degree are Acute Angle.
Example of Obtuse Angle – 102, 115, 178, 145 etc.
∠ABC


सरल कोण किसे कहते है ? सरल कोण का माप कितना होता है ?

सरल कोण की परिभाषा लिखिए।
4. सरल कोण या ऋजु कोण – सरल कोण की परिभाषा – 180 डिग्री (180°) के कोण को सरल कोण या ऋजु कोण कहते है। 
अर्थात सरल कोण का मान 180 डिग्री (180°) बराबर होता है। 
सरल कोण का मान हमेशा निश्चित रहता है। 
सरल कोण का माप = सरल कोण = 180°
Straight Angle : A angle which value is equal to 180 degree, called Straight Angle. This angle value has always fix 180 degree.
∠ABC


वृहत कोण किसे कहते है ? वृहत कोण का माप कितना होता है ?
वृहत कोण की परिभाषा लिखिए। 
5. वृहत कोण या प्रतिवर्ती कोण – वृहत कोण की परिभाषा – 180 डिग्री (180°) से बड़े परन्तु 360 डिग्री (360°) से छोटे कोण को वृहत कोण या प्रतिवर्ती कोण कहते है। 
अर्थात वृहत कोण मान 180 डिग्री (90°-180°) से 360 डिग्री के मध्य होता है। 
वृहत कोण का माप = 180° < वृहत कोण > 360°
Reflex Angle : A angle which value greater than 180 degree and smaller than 360 degree, called Reflex Angle. All angle which are between 181 to 359 degree are Acute Angle.
Example of Obtuse Angle – 258, 316, 200, 185 etc.
∠ABC
सम्पूर्ण कोण किसे कहते है ? सम्पूर्ण कोण का माप कितना होता है ?
सम्पूर्ण कोण की परिभाषा लिखिए। 
6. सम्पूर्ण कोण – सम्पूर्ण कोण की परिभाषा – 360 डिग्री (360°) के कोण को सम्पूर्ण कोण कहते है। 
अर्थात सम्पूर्ण कोण का मान 360 डिग्री (360°) बराबर होता है। 
सम्पूर्ण कोण का मान हमेशा निश्चित रहता है। 
सम्पूर्ण कोण का माप = सम्पूर्ण कोण = 360°
Whole Angle : A angle which value is equal to 360 degree, called Whole Angle. It’s value always fix 360 degree.


पूरक कोण – कोणों का ऐसा युग्म जिनका योगफल 90 डिग्री होता है, परस्पर पूरक कोण कहलाते है। 
Complementary Angle : A pair of angle which sum are equal to 90 degree called, Complementary Angle.

जैसे (Example) : 80° + 10° = 90°
45° + 45° = 90°
60° + 30° = 90° आदि।

संपूरक कोण – कोणों का ऐसा युग्म जिनका योगफल 180 डिग्री होता है, परस्पर सम्पूरक कोण कहलाते है।
Supplementary Angle : A pair of angle which sum are equal to 180degree called, Supplementary Angle.

जैसे (Example) : 130° + 50° = 180°
90° + 90° = 180°
40° + 140° = 180° आदि।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!