अनेकार्थी शब्द | अनेकार्थी शब्द की परिभाषा, अत्यन्त महत्वपूर्ण अनेकार्थी शब्द

 

अनेकार्थी शब्द


अनेकार्थी शब्द की परिभाषा 
जिन शब्दों के एक से अधिक अर्थ हो, उन्हें अनेकार्थी शब्द कहते है। इस अध्याय में हम परीक्षा की दृष्टि से अत्यन्त महत्वपूर्ण अनेकार्थी शब्दो का अध्ययन करेगे।

जड़ – मूल, मूर्ख, निर्जीव, अचेतन
तात – पिता, बड़ा भाई, अन्य प्रिय, सम्मानित व्यक्ति
नग – पहाड़, नगीना, रत्न, संख्यासूचक शब्द, वृक्ष
नव – नया, नौ
पत्र – चिट्ठी, पत्ता, किसी धातु का पत्थर
पद – पैर, ओहदा, छंद, शब्द, स्थान, कविता का चरण

अंक – संख्या, चिन्ह, गोंद, नाटक के भाग, भाग्य
अर्थ – प्रयोजन, धन, कारण, हेतु, मतलब, लिए, भाव, अभिप्राय
अधर – पृथ्वी और आकाश के बीच का भाग, नीचे का ओष्ठ
अंबर – आकाश, वस्त्र, एक सुगंधित खनिज, अमृत
अंतर – भेद, ह्रदय, दूरी, शेष, बीच
अंचल – देश या प्रान्त का एक भाग आँचल, किनारा
अरुण – सूरज, लाल, सूर्य का सारथी
उत्तर – जवाब, एक दिशा का नाम, बाद में आने वाला, हल, जवाब
कर – टैक्स, हाथ, किरण, सूंड
कल – आने वाला कल, बीता हुआ कल, मशीन, चैन
कुल – वंश, सम्पूर्ण, योग, परिवार
काल – समय, मृत्यु, योग, यमराज
पानी – जल, चमक, सम्मान, कलई, इज्जत
सर – बाण, तालाब, सिर
हरि – भगवान, सूर्य, घोड़ा, वानर, इंद्र, पहाड़, हाथी, मेंढक, कोयल, किरण, हंस, सिंह
वर – वरदान, दूल्हा, श्रेष्ठ, पति
विधि – तरीका, भाग्य, कानून, ब्रह्मा
काम – कार्य, पेशा, धंधा, वासना, कामदेव
अर्थ – धन, ऐश्वर्य, प्रयोजन, हेतु
अक्षर – नष्ट न होने वाला, वर्ण, ईश्वर
घन – बादल, भारी, हथौड़ा, घना
लक्ष्य – निशान, उद्देश्य
बाल – बालक, केश, बाला, दानेयुक्त, डंठल
आराम – बाग, विश्राम, रोग का दूर होना
गुण – कौशल, शील, रस्सी, स्वभाव, धनुष की डोरी
जलज – कमल, मोती, मछली, चंद्रमा, शंख, सेवार
पयोधर – बादल, स्तन, पर्वत, गन्ना
फल – लाभ, मेवा, नतीजा, भाले की नोक
मधु – शहद, मदिरा, चैत्रमास, एक दैत्य, वसंत
राग – प्रेम, लाल रंग, संगीत, की ध्वनि
वर्ण – अक्षर, रंग, जातियाँ
क्षेत्र – देह, खेत, तीर्थ, सदाव्रत, बाँटने का स्थान
सर – अमृत, दूध, पानी, गंगा, मधु, पृथ्वी, तालाब
राशि – समूह, मेष कर्क आदि राशियाँ
शिव – भाग्यशाली, महादेव, श्रृंगाल, देव, मंगल
सारंग – मोर, सर्प, मेघ, हिरण, पपीहा, राजहंस, हाथी, कोयल, कामदेव, सिंह, धनुष, भौरा, मधुमक्खी, कमल
अपवाद – कलंक, वह प्रचलित प्रसंग जो नियम के विरुद्ध हो
अतिथि – मेहमान, साधु, यात्री, अपरिचित व्यक्ति, यज्ञ में सोमलता लाने वाला, अग्नि, राम का पोता या कुश का बेटा
आपत्ति – विपत्ति, एतराज
अपेक्षा – इच्छा, आवश्यकता, आशा
अंनत – आकाश, ईश्वर, विष्णु, अंतहीन, शेषनाग
कला – अंश, किसी कार्य को अच्छी तरह करने का कौशल
कनक – सोना, धतूरा, गेंहूँ
कुशल – खैरियत, चतुर
खग – पक्षी, तारा, गंधर्व, बाण
खर – दृष्टि, धतूरा, दवा कूटने का खरल
गण – समूह, मनुष्य, भूत प्रेतादि, शिव के गण, पिंगल के गण
गुरु – शिक्षक, ग्रह विशेष, श्रेष्ठ, बृहस्पति, भारी, बड़ा, भार
गो – बाण, आँख, वज्र, गाय, स्वर्ग, पृथ्वी, सरस्वती, सूर्य, बैल
गुण – कौशल, शील, रक्सी, स्वभाव, धनुष की डोरी
गति – चाल, दशा, मोक्ष, हालात
घन – बादल, अधिक, घना, गणित का घन, पिण्ड, हथौड़ा
जाल – फरेब, बुनावट, जाला
जलधर – बादल, समुंद्र
ज्येष्ठ – पति का बड़ा भाई, बड़ा, हिंदी महीना
तीर – किनारा, तट, बाण
तारा – आँख की पुतली, नक्षत्र, बालि की स्त्री, बृहस्पति की स्त्री
दंड – डंडा, एक व्यायाम, सजा
द्रव्य – धन, वस्तु
धन – संपत्ति, योग
धर्म – प्रकृति, स्वभाव, कर्तव्य, सम्प्रदाय
नाग – हाथी, साँप, एक जाति का नाम
निशाचर – राक्षस, प्रेत, उल्लू, चिर
पक्ष – पंद्रह दिन का समय, ओर, बल, सहाय, पार्टी
पृष्ठ – पीठ, पत्रा, पीछे का भाग
प्रभाव – सामर्थ्य, असर, महिमा, दबाव
पतंग – सूर्य, पक्षी, टिड्डी, फतिंगा, गुडडी
पय – दूध, पानी
बल – सेना, शक्ति
बलि – राजा बलि, बलिदान, उपहार, कर
मुद्रा – मुहर, आकृति, धन
अज – बकरा, ब्रह्मा, शिव
अर्क – सूर्य, रस, पंडित, रविवार, आक का पौधा
अक्षर – वर्ण, शिव, ब्रह्मा, मोक्ष, सत्य, स्वर-व्यंजन
अमृत – अन्न, दूध, पारा, जल, स्वर्ग
अब्ज – शंख, कपूर, कमल, चंद्रमा
अग्र – आगे का, पहले, श्रेष्ठ, सिरा
अलि – भौरा, सखि, कोयल
आत्मा – सूर्य, परमात्मा, अग्नि
आदर्श – उदाहरण, दान, त्याग
कर्ण – कान, कुंतीपुत्र
कुंडल – साँप की गेडुरि, कान का आभूषण
गिरा – वाणी, गिरना
कृष्ण – काला, श्रीकृष्ण, कृष्ण पक्ष
गौ – इन्द्रिय, गाय, पृथ्वी
घट – घड़ा, शरीर, मन
चीर – वस्त्र, रेखा, चीरना
ताल – संगीत जा ताल, वृक्ष का नाम, तालाब
ठाकुर – देवता, हज, ब्राह्मण, छत्रिय
द्विज – ब्राह्मण, पक्षी, चंद्रमा, दांत
धात्री – पृथ्वी, आँवला, माता, उपमाता
पोत – जहाज, बच्चा, वस्त्र, गुड़िया
पद – दर्जा, शब्द, पैर, स्थान
वाणी – बोली, सरस्वती
भूत – प्रेत, प्राणी, गतसमय, पृथ्वी, पंचभूत
बजा – उचित, उपयुक्त, घड़ी का समय, सही, ठीक स्वीकार्य, शुद्ध, तंदरुस्त
वसन – कपड़ा, कमर का एक आभूषण, किसी जगह बसना
सांझ – गोधूलि बेला (शाम व रात के बीच का समय), मिलन काल
घाव – शरीर पर चोट का निशान, दुःखद स्थिति, जख्म, प्रहार
तल – पैदा, किसी वस्तु का निचला भाग
संदेश – किसी के द्वारा भिजवाई गई बात, हाल, खबर, आदेश, विचार
फूट – आपसी अनबन, कोई वस्तु फूटना
पास – नजदीक, करीब, उत्तीर्ण

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!